लाहौर की सड़कों पर लग गये विंग कमांडर अभिनंदन और पीएम मोदी के पोस्टर, जाने क्यों?

NATIONAL

लाहौर। पाकिस्तान में फिर एक बार भारतीय वायुसेना के पराक्रमी पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान चर्चा का विषय बने हुए हैं। उनके और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कई पोस्टर लाहौर की सड़कों पर लगे दिखे हैं। इन पोस्टरों के जरिए नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता अयाज सादिक पर निशाना साधा गया है। कई पोस्टरों में अयाज सादिक को कौम का गद्दार बताते हुए मीर जाफर से तुलना की गई है। अयाज सादिक ने ही पाकिस्तानी संसद में अभिनंदन की रिहाई को लेकर इमरान खान सरकार की पोल खोली थी।

अयाज सादिक के निर्वाचन क्षेत्र लाहौर की सड़कों के किनारे लगे इन पोस्टरों में विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान और पीएम मोदी की तस्वीरें जानबूझकर लगाई गई हैं। इसमें ऊर्दू में पीएमएल-एन पार्टी के नेता अयाज सादिक को देशद्रोही करार दिया गया है। कुछ पोस्टरों में सादिक को वर्धमान के रूप में दिखाया गया है। कई पोस्टरों में उन्हें भारत समर्थक भी करार दिया गया है।

पाकिस्तान के गृह मंत्री (आंतरिक मंत्री) एजाज अहमद शाह ने एक जनसभा के दौरान कहा कि अयाज सादिक को पाकिस्तान चले जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अपनी फौज के खिलाफ जो बात उन्होंने संसद में कही है उसे वो अमृतसर जाकर कहें। पूरे पाकिस्तान में अयाज सादिक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इमरान सरकार के मंत्री तो उनके खिलाफ मोर्चा खोलकर बैठ गए हैं।

अयाज सादिक पाकिस्तान की संसद में दिए गए अपने बयान पर अब भी कायम हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उनके पास कई राज आज भी दफन हैं, लेकिन कभी भी कोई गैरजिम्मेदाराना बयान नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि मैंने राजनीतिक मतभेद के चलते यह बयान दिया था। इसे पाकिस्तानी सेना के साथ जोड़ना सही नहीं है। मैं अपने रुख से खड़ा हूं और आप इसे भविष्य में देखेंगे। मैंने पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा समिति का नेतृत्व किया है। हम राजनीतिक लोग हैं और अतीत में राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ बयान देते रहे हैं । हम भविष्य में भी ऐसा करना जारी रखेंगे, लेकिन जब पाकिस्तान या हमारी एकता या संस्थानों की बात आती है तो भारत के लिए पाकिस्तान का संदेश बहुत स्पष्ट है।

अयाज सादिक ने कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में कहा था कि भारत के विंग कमांडर अभिनंदन वर्दमान की रिहाई पाकिस्तान से हमले के डर के की थी। उन्होंने यह भी कहा था कि शाह महमूद कुरैशी उस बैठक में थे जिसमें इमरान खान ने आने से इनकार कर दिया। कुरैशी के पैर कांप रहे थे, उनके माथे पर पसीना था। कुरैशी ने कहा खुदा का वास्ता अब इसको वापस जाने दें क्योंकि 9 बजे रात को हिंदुस्तान पाकिस्तान पर हमला कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *