हिंदू सेना ने चीनी दूतावास के बाहर लगाए फारूक अब्दुल्ला के पोस्टर, उठाई ये अनोखी मांग

TREANDING

नेशनल कान्फ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला इन दिनों चीन पर दिए अपने बयान के कारण लोगों की आलोचना का सामना कर रहे हैं जिसमें उन्होंने कथित तौर पर ‘चीन की मदद से जम्मू और कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35ए बहाल किए जाने की उम्मीद जताई’ थी। इस बार उनका विरोध हिंदू सेना ने किया है जिन्होंने चीनी दूतावास के बाहर उनके पोस्टर लगाकर चीन से फारूक को ‘गोद’ लेने को कहा है।

बता दें कि मीडिया में छपी खबरों के मुताबिक, अब्दुल्ला ने रविवार को कथित रूप से कहा था, ‘‘जहां तक चीन का सवाल है मैंने तो कभी चीन के राष्ट्रपति को यहां बुलाया नहीं। हमारे वजीर-ए-आजम (प्रधानमंत्री) ने उसे गुजरात में बुलाया…मगर उन्हें वह पसंद नहीं आया और उन्होंने आर्टिकल 370 को लेकर कहा कि हमें यह कबूल नहीं है। और जब तक आप आर्टिकल 370 को बहाल नहीं करेंगे, हम रुकने वाले नहीं हैं। अल्लाह करे कि उनके इस जोर से हमारे लोगों को मदद मिले और अनुच्छेद 370 और 35ए बहाल हो।’’

बीजेपी के निशाने पर अब्दुल्ला 

उनके इस बयान के बाद, सोमवार को बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘एक तरह से फारूक अब्दुल्ला अपने इंटरव्यू में चीन की विस्तारवादी मानसिकता को न्यायोचित ठहराते हैं, वहीं दूसरी ओर एक देशद्रोही कमेंट करते हैं कि भविष्य में हमें अगर मौका मिला तो हम चीन के साथ मिलकर अनुच्छेद 370 वापस लाएंगे।’’

वही ओलिंपिक पदक विजेता और बीजेपी नेता योगेश्वर दत्त ने ट्वीट करते हुए लिखा कि ‘चीन का गुणगान करने से फारुक अब्दुल्ला का देश विरोधी व्यक्तित्व अब खुलकर सबके सामने आ गया है। सोचिये ऐसे गद्दारों ने देश में मंत्री और मुख्यमंत्री रहते क्या क्या कार्य किये होंगे।’

उन्होंने आगे कहा कि इससे पहले इसने ‘भारत के लिए कहा था कि PoK क्या तुम्हारे बाप का है, जो तुम PoK ले लोगे, क्या पाकिस्तान ने चूड़ियां पहनी हैं। ये लोग अपना समय आने पर देश का सौदा करने से भी पीछे नहीं हटेंगे।’

जम्मू-कश्मीर बीजेपी अध्यक्ष रवींद्र रैना ने भी अब्दुल्ला पर जमकर हमला बोला है। बीजेपी नेता ने कहा कि ‘अनुच्छेद 370 हट चुका है इतिहास में दोबारा नहीं आएगा। फारूक अब्दुल्ला जो मुंगेरी लाल के सपने देख रहे हैं। ये सोच रहे हैं कि चीन पाकिस्तान और तुर्की मिलकर यहां पर धारा 370 लगाएंगे। यह उनकी ग़लतफहमी है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *