कंगन रनौत ने उद्धव सरकार को बताया ‘गुंडा सरकार’, मंदिरों को बंद रखने पर जताई नाराज़गी

TREANDING

महाराष्ट्र में मंगलवार को सभी धार्मिक स्थलों को फिर से खोलने की मांग करते हुए उद्धव ठाकरे सरकार के खिलाफ जगह जगह विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहे हैं। इस संबंध में महाराष्ट्र के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने लिखा कि एक तरफ राज्य सरकार ने बार, रेस्तरां और समुद्र तट खोलने की अनुमति दे दी जबकि दूसरी तरफ, मंदिर सारे बंद हैं। उनके इस पत्र पर अब बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने प्रतिक्रिया दी है और महाराष्ट्र सरकार को ‘गुंडा सरकार’ बताया है।

कंगना का महाविकास अघाड़ी सरकार पर हमला

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा- “यह जानकर अच्छा लगा कि माननीय गवर्नर सर द्वारा गुंडा सरकार से सवाल किए जा रहे हैं। गुंडों ने बार और रेस्तरां खोल दिए हैं लेकिन रणनीतिक रूप से मंदिरों को बंद रखा है। सोनिया सेना, बाबर सेना से भी बदतर व्यवहार कर रही है।

‘क्या आप अचानक धर्मनिरपेक्ष हो गए हैं?’

बता दें कि गवर्नर ने अपने पत्र में सीएम उद्धव से पूछा था- “आप हिंदुत्व के एक मजबूत समर्थक रहे हैं। आपने मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद अयोध्या जाकर भगवान राम की सार्वजनिक रूप से भक्ति की वकालत की थी। आपने पंढरपुर में विठ्ठल रुक्मिणी मंदिर का दौरा किया था और आषाढ़ी एकादशी पर पूजा की थी। मुझे आश्चर्य है कि क्या आपको मंदिरों को फिर से खोलने के फैसले में बार बार देरी करने के लिए कोई दिव्य चेतावनी मिल रही है या आप अचानक ‘धर्मनिरपेक्ष’ बन गए हैं, एक ऐसा शब्द जिससे आपको नफरत थी?”

बता दें कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में बढ़ती कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए राज्य में 31 अक्टूबर तक के लिए लॉकडाउन बढ़ा दिया है। हालांकि राज्य सरकार द्वारा ‘मिशन स्टार्ट अगेन’ के तहत अनलॉक 5 को लेकर दिशानिर्देश भी जारी किए गए थे।

अनलॉक 5 में, राज्य सरकार ने होटल, रेस्तरां, फूड कोर्ट और बार को पांच अक्टूबर से अधिकतम 50% क्षमता के साथ अपने डाइन-इन सेवाओं को फिर से शुरू करने की अनुमति दी थी। हालांकि इन सब के बावजूद, ठाकरे सरकार ने राज्य में धार्मिक स्थलों को भक्तों को खोलने के लिए अनुमति नहीं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *