मंदिर की मूर्तियाँ तोड़ने वाला “मोहम्मद इस्माइल शैदी” गिरफ्तार, इसे कौन सी सजा मिलनी चाहिए …

TREANDING

पाकिस्तान के सिंध के बदीन ज़िला स्थित कड़ियू घनौर शहर में शनिवार (अक्टूबर 10, 2020) को एक हिन्दू मंदिर में तोड़फोड़ की घटना सामने आई है। स्थानीय पुलिस ने इस मामले में मोहम्मद इस्माइल शैदी नाम के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने बताया की शिकायतकर्ता अशोक कुमार ने इस मामले की जानकारी दी है। कुमार ने आरोप लगाया कि संदिग्ध मुहम्मद इस्माइल ने गाँव के मंदिर में तोड़फोड़ की। इस्माइल ने मंदिर में रखी मूर्तियों को क्षतिग्रस्त कर दिया और फिर मौके से फरार हो गया। कड़ियू घनौर पुलिस ने पाकिस्तान दंड संहिता की धारा 295(ए) के तहत मामला दर्ज कर अभियुक्त मोहम्मद इस्माइल शैदी को गिरफ्तार कर लिया है।

बदीन के एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि एफआईआर दर्ज होने के कुछ ही घंटों के भीतर इस्माइल को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने कहा, “अभी यह पुष्टि होनी बाकी है कि आरोपित (इस्माइल) मानसिक रूप से स्थिर है है या नहीं। साथ ही पुलिस इस बात का भी पता लगाएगी कि क्या उसने जानबूझकर मूर्तियों को नुकसान पहुँचाया है।” वहीं इस मामले में बदीन के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शबीर सेठार ने 24 घंटे के भीतर जाँच रिपोर्ट माँगी है।

वहीं पाकिस्तान के हिंदू समुदाय ने इस हमले पर गुस्सा और नाराजगी व्यक्त की है। ‘वॉइस ऑफ पाकिस्तान’ नाम से एक ट्विटर एकाउंट ने हिंदू मंदिर पर हुए हमले पर आपत्ति जताते हुए ट्वीट करते हुए कहा, “कल बदीन में एक और हिंदू मंदिर श्री रामदेव कादियोघंवर मंदिर धार्मिक को एक कट्टरपंथी द्वारा अपमानित किया गया। धार्मिक अल्पसंख्यकों की भी भावनाएँ हैं। अब दोषारोपण के खिलाफ ईश निंदा के मामले क्यों नहीं उठाए गए?”

गौरतलब है कि पाकिस्तान में हिंदू सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है। यह मामला पाकिस्तान राज्य में अल्पसंख्यकों की विकट परिस्थितियों का एक और उदाहरण है। हिंदू पाकिस्तान में सबसे बड़े अल्पसंख्यक समुदाय का गठन करते हैं, लेकिन हिंदू मंदिरों के खिलाफ बर्बरता की बार-बार रिपोर्ट दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *