कॉंग्रेस ने बलात्कारी को टिकट दिया तो कॉन्ग्रेस की महिला नेता ने मंच पर कूटा, बोली- अब सुकून मिला

TREANDING

उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के टाउन हॉल स्थित कॉन्ग्रेस कार्यालय में शनिवार (10 अक्टूबर 2020) को बैठक आयोजित की गई थी। इस बैठक में कॉन्ग्रेस प्रत्याशी मुकुंद भास्कर मणि का स्वागत होना था। इस दौरान कॉन्ग्रेस की ही तारा यादव का राष्ट्रीय सचिव सचिन नायक से विवाद हो गया। विवाद बहुत जल्द हाथापाई में बदल गया, जिसमें साफ़ देखा जा सकता है कि कई कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने तारा यादव को पीट दिया। यह वीडियो काफी चर्चा में बना हुआ है।

दरअसल उत्तर प्रदेश की 7 विधानसभा सीटों पर आगामी 3 नवंबर को चुनाव होने वाले हैं, देवरिया सदर सीट इनमें से एक है। मुकुंद भास्कर मणि इस विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाए गए थे, उनके स्वागत के लिए कॉन्ग्रेस कार्यालय में बैठक आयोजित की गई थी।

इस बैठक में राष्ट्रीय सचिव और प्रदेश प्रभारी सचिन नायक भी शामिल हुए थे। संगठन की इस बैठक में चुनावी रणनीति पर भी चर्चा होनी थी। तभी पार्टी नेत्री तारा यादव कार्यालय में गुलदस्ता लेकर पहुँची और उनकी सचिन नायक से बहस शुरू हो गई। ख़बरों के मुताबिक़ वह चुनाव के लिए पार्टी टिकट नहीं मिलने की वजह से नाराज़ थीं।

बहस के दौरान तारा यादव ने कॉन्ग्रेस के राष्ट्रीय सचिव को धक्का दिया, जिसके बाद उन्होंने भी पार्टी नेत्री को थप्पड़ जड़ दिया। वायरल वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि इसके बाद कई अन्य कार्यकर्ताओं ने उनसे मारपीट शुरू कर दी। जल्द ही वहाँ मौजूद अन्य कार्यकर्ता उन्हें कार्यालय से बाहर लेकर गए। बाहर निकलने के बावजूद कॉन्ग्रेस नेत्री तारा यादव चिल्ला कर विरोध कर रही थीं। इसके अलावा बाहर निकलने पर उन्होंने कहा कि थप्पड़ मार कर सुकून मिल गया।

एक समाचार समूह से बात करते हुए उन्होंने कहा, “पार्टी ने एक गलत व्यक्ति को टिकट दिया है, वह नेता (मुकुंद भास्कर मणि) बलात्कारी है। मैंने राष्ट्रीय सचिव से यही कहा था कि उन्होंने एक गलत व्यक्ति को टिकट दिया है। इस कदम से संगठन की छवि पर प्रभाव पड़ेगा, यह टिकट किसी और को दिया जाना चाहिए। कोई ऐसा जिसका चरित्र और तौर तरीका बेहतर हो, यह बात कहने की वजह से मेरे साथ अभद्र व्यवहार और मारपीट हुई।”

घटना के बाद तारा यादव ने कॉन्ग्रेस जिलाध्यक्ष समेत 4 नामजद और अन्य के विरुद्ध मारपीट व छेड़खानी का मामला दर्ज कराया है। वहीं कॉन्ग्रेस के अन्य कार्यकर्ताओं का कहना है कि तारा यादव देवरिया सदर विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनावों के लिए टिकट माँग रही थीं। इस सीट से लगभग डेढ़ दर्जन उम्मीदवार थे और टिकट किसी और को ही दिया जा सकता था। इस बात से नाराज़ होकर कॉन्ग्रेस नेत्री ने पार्टी के ही राष्ट्रीय सचिव के साथ अभद्र व्यवहार किया। उनके द्वारा लगाए गए सभी आरोप सरासर गलत हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *