राजस्थान: जिंदा जलाकर मार डाले गए पुजारी के परिजनों का अंतिम संस्कार से इनकार, कहा- पहले गहलोत पूरी करें माँग

TREANDING

राजस्थान के करौली जिले में पुजारी को जिंदा जलाने की घटना के बाद जहां इसे लेकर सियासत तेज हो रही है। वहीं इसी बीच पुजारी के परिवार ने परिवार ने का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। मिली जानकारी के अनुसार परिवार की मांग है कि उन्हें जमीन का आवंटन किया जाए। साथ ही इस हत्याकांड के बाद उनके परिवार से एक बच्चे को नौकरी दी जाए। इधर दिल दहला देने वाली इस घटना के बाद प्रदेश में सियासत का पार चढ़ा हुआ है। हालांकि पुलिस ने हत्या के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

प्रदेश के नेताओं का करौली आने जाने का सिलसिला जारी
पुजारी को जिंदा जलाकर मार देने के इस मामले में प्रदेश की राजनीति में भूचाल ला दिया है। जहां पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने इस मामले में सरकार की घोर निंदा की है। वहीं सतीश पूनिया ने गहलोत सरकार को सवालों के घेरे में लाकर बीजेपी की ओर से तीन सदस्यीय कमेटी का गठन करवाया है। दूसरी ओर प्रदेश बीजेपी के शीर्ष नेताओं के पीड़ित परिवार से मिलने का सिलसिला भी जारी है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और दौसा राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने भी परिवार से मुलाकात की है।

जानें क्या है पूरा मामला
आपको बता दें कि राजस्थान के करौली जिले के सपोटरा क्षेत्र के बूकना गांव में मंदिर की भूमि पर कब्जा करने के मामले ने एक पुजारी का जान ले ली। आपको बता दें कि यहां कैलाश मीणा नामक एक व्यक्ति ने छप्पर डाल कर इस भूमि पर कब्जा कर लिया था। लिहाजा यह बात सामने आने के बाद वहां मंदिर के पुजारी ने अतिक्रमणकारियों को टोका, तो उन्होंने पेट्रोल छिड़ककर पुजारी को आग लगा दी, जिसके बाद जयपुर में एसएमएस अस्पताल में उपचार के दौरान गुरुवार शाम सात बजे पुजारी की मौत हो गई। हालांकि पुलिस ने मुख्य आरोपी कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया है। अन्य की तलाश जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *