राजस्थान: मंदिर पर अवैध कब्जे का विरोध करने वाले पुजारी को 6 लोगों ने पेट्रोल से आग लगा कर मार डाला

TREANDING

राजस्थान के करौली जिले में राधा गोविन्द मंदिर के 50 वर्षीय पुजारी बाबूलाल वैष्णव को एक भू-माफिया और उसके साथियों ने बृहस्पतिवार (अक्टूबर 08, 2020) को जिन्दा जला दिया। पुजारी को इस घटना के बाद जयपुर के SMS अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहाँ आज, शुक्रवार सुबह ही उनकी मौत हो गई।

स्थानीय लोगों ने ऑपइंडिया को इस खबर की सूचना दी। उन्होंने कहा कि सपोटरा तहसील में मंदिर के पुजारी को 6 लोगों ने पेट्रोल डालकर आग के हवाले कर दिया। दरअसल, पुजारी ने भू-माफियाओं को दी गई जमीन का अतिक्रमण करने से रोकने का प्रयास किया था, जिसके बदले पुजारी को अपनी जान गँवानी पड़ी।

घटना के बाद मंदिर के पुजारी का जला हुआ शरीर
जयपुर के अस्पताल में पुजारी, जहाँ उनकी मृत्यु हो गई

बताया जा रहा है कि जिस इलाके में यह घटना हुई, वह मूलनिवासी और दलित राजनीति के दवाब वाला इलाका है, जहाँ हिन्दू धर्म से नफरत और अपमान करने के लिए नई पीढ़ी को उकसाया जाता है।

स्थानीय लोगों ने ऑपइंडिया को बताया कि इस इलाके में भीम आर्मी की हिन्दू-घृणा की मानसिकता को खूब फैलाया जा रहा है जिसके परिणामस्वरूप यह घटना हुई है। स्थानीय हिंदूवादी संगठन के लोगों ने ऑपइंडिया को बताया कि पंडित जी राधा-गोविन्द मंदिर की सेवा करते थे। मीणा समुदाय के लोग इस मंदिर पर कब्जा करना चाहते थे जिसका कि पंडित जी ने विरोध किया।

घटना को लेकर सपोटरा क्षेत्रवासियों में सपोटरा थाना पुलिस के प्रति आक्रोश है। उन्होंने पुलिस पर ऐसे मामलों में हमेशा निष्क्रियता बरतने का भी आरोप लगाया है।

लोगों का कहना है कि राजस्थान सरकार अभी तक भी इस हिंसा को लेकर उदासीन बनी हुई है। पंडित जी ने मृत्यु से पहले 6 लोगों का नाम लिया, जिन्होंने उन पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगाई। इन लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की गई हैं।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पालघर में 16 अप्रैल को जूना अखाड़े के महाराज कल्पवृक्ष गिरि (70), उनके सहायक सुशील गिरि महाराज (35) और उनके ड्राइवर नीलेश तेलगड़े (30) की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। गडचिंचाले गाँव से निकलते वक्त करीब 500 लोगों ने उन पर हमला किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *