बीजेपी सांसद रवि किशन बोले, सांच को आंच नहीं “पूरा देश रिपब्लिक के साथ खड़ा है”

TREANDING

ईमानदार और सच्ची पत्रकारिता करने वाले रिपब्लिक टीवी के खिलाफ मुंबई पुलिस के कमिश्नर बौखलाए हुए हैं। यही वजह है कि टीआरपी घोटाले को लेकर दर्ज FIR में नाम इंडिया टुडे चैनल का है। लेकिन मुंबई पुलिस कमिश्नर ने रिपब्लिक टीवी का नाम घसीटने की कोशिश की है।

इसलिए परमबीर सिंह के झूठे आरोप का भंडाफोड़ होने के बाद अब उनकी चौतरफा आलोचना हो रही है। गोरखपुर से सांसद रवि किशन ने रिपब्लिक का समर्थन करते हुए कहा कि पूरा देश रिपब्लिक के साथ है।

रवि किशन ने कहा कि रिपब्लिक का इस तरह नाम घसीटे जाना मेरे लिए काफी चौंकाने वाला था। मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है और अर्नब गोस्वामी को पूरे देश से समर्थन मिल रहा था। लेकिन हमने एक कहानी सुनी है कि जब कोई आदमी बहुत बड़ा हो जाता है तो उसके खिलाफ साजिश रचना शुरू हो जाती है।

उन्होंने आगे कहा कि रिपब्लिक भारत के साथ पूरा देश है। तो चिंता की कोई बात नही है और ऐसा सुनाने में आया है कि जबसे इस  ये कांड हुआ है तबसे रिपब्लिक की टीआरपी में और ज्यादा उछाल आ गया है।

भारतीय जनता पार्टी के तेज तर्रार नेता और बेगूसराय से सांसद गिरिराज सिंह ने TRP स्कैम में बिना किसी सूबत के रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क का नाम घसीटे जाने को लेकर  मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह की आलोचना की है।  केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया है। जावडेकर ने ट्वीट कर कहा है कि कांग्रेस पार्टी मीडिया पर हमला कर रही है। साथ ही ये भी कहा कि मीडिया पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उधर बीजेपी अध्यक्ष ने जेपी नड्डा ने भी कांग्रेस पर  निशाना साधा है। नड्डा ने कहा है कि मीडिया पर हमला कांग्रेस की आदत है। साथ ही जेपी नड्डा ने कहा कि रिपब्लिक टीवी पर हमला मंजूर नहीं।  बीजेपी नेता राम कदम का ने उद्धव सरकार पर हमला बोला और कहा कि रिपब्लिक को दबाने की कोशिश हो रही है।

हंसा रिसर्च ग्रुप की पहली प्रतिक्रिया 

हंसा रिसर्च के सीईओ प्रवीण निझारा ने अपने बयान में कहा- “यह टीआरपी रेटिंग में हेरफेर मामले से संबंधित मीडिया रिपोर्टों के संदर्भ में है। हंसा रिसर्च और BARC ने पिछले कुछ हफ्तों में इस मामले की जांच की, जिसके नतीजे में हंसा रिसर्च ने एक पूर्व कर्मचारी के खिलाफ FIR दर्ज कराई जो गलत कामों में शामिल था। हंसा रिसर्च इन मुद्दों के बारे में हमेशा सतर्क रहा है और जब भी ऐसे मामले हमारे सामने आए हैं तो उन्हें सक्रियता से BARC और कानून प्रवर्तन एजेंसियों को सूचित किया है। हम BARC के साथ सहयोग करना जारी रखेंगे और जब भी अधिकारियों द्वारा बुलाया जाएगा तो उनके साथ भी सहयोग करेंगे।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *