आजतक और ABP न्यूज़ की दो गुंडीयों पर लग सकता है NSA, दंगे करवाने के लिए दोनों ने फैलाई है जातिय नफरत

TREANDING

योगी सरकार हाथरस का मामला सीबीआई को सौंप चुकी है, पीडिता का परिवार मना करता रहा पर सरकार ने फिर भी केस सीबीआई को सौंप दिया

ये अपने आप मे कदाचित ऐसा पहला मामला है जहाँ पीड़ित परिवार सीबीआई जांच से मना कर रहा है जबकि आरोपियों का परिवार सीबीआई जांच का स्वागत कर रहा है

हाथरस का मामला तो सीबीआई के पास चला गया पर योगी सरकार अब पत्रकारिता के नाम पर उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक और जातीय नफरत फैलाने वाले फर्जी पत्रकारों पर कार्यवाही की तैयारी कर रही है

योगी सरकार के राडार पर 2 मीडिया हाउसेस के फर्जी पत्रकार है, जो हाथरस परिवार को 50 लाख दिलवा रहे थे साथ ही प्रियंका वाड्रा के साथ लड़की के परिवार की सेटिंग करवा रहे थे

गुंडे पत्रकार अफवाह उड़ाने का भी काम कर रहे थे और इनका मुख्य काम था राजनितिक दलाली करना तथा जातीय नफरत फैलाना

योगी सरकार ने 2 मीडिया हाउसेस के 2 गुंडीयों की पहचान की है जो पत्रकारिता के नाम पर दंगे फसाद करवाने के लिए दलाली का काम कर रहे थे, गौरव प्रधान की ओर से आ रही जानकारी के अनुसार ये दो मीडिया हाउस है ABP न्यूज़ और दूसरा आजतक

आजतक के दलालों के ऑडियो लीक हुए थे जिनमे वो दलित परिवार से अपने मन मुताबिक विडियो बनवाने को कह रहे थे साथ ही वो प्रियंका वाड्रा के साथ परिवार की डील भी करवा रहे थे, अब इन दोनों दलाल पत्रकारों के नाम भी जल्द सामने आ जायेंगे जिनके खिलाफ कार्यवाही होने जा रही है, योगी सरकार किसी भी उपद्रवी को छोड़ने के मूड में नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *